Sunday, February 28, 2021

नारी नर की चिर आकषर्ण

 नारी प्रेम की डोरी है

               


नारी नर की चिर आकषर्ण, नारी प्रेम की डोरी है।

नारी सृष्टि का केन्द्र बिन्दु है, काली हो या गोरी है।।

प्रकृति-पुरुष हैं, आदि काल से।

नर चलता है,  नारी चाल से।

नारी हित, ये, जीता-मरता,

नारी सुरक्षित, नर की ढाल से।

कदम-कदम, नारी ही प्रेरक, नर बिन नारी कोरी है।

नारी नर की चिर आकषर्ण, नारी प्रेम की डोरी है।।

अधरों की,  मुस्कान,  ने हेरा।

कपोल लालिमा, बनाया चेरा।

रमणी की बंकिम चितवन ने,

उर को भेदा, डारा डेरा।

वक्षस्थल की गोलाइयों ने, नर उर की, की चोरी है।

नारी नर की चिर आकषर्ण, नारी प्रेम की डोरी है।।

नारी चित, चलती, चतुराई।

नर को फंसाकर, है, हरषाई।

अंग-अंग कमनीय, कामिनी,

नर को खींचे, बने हरजाई।

प्रेम भाव, विश्वास, जन्मता, नर-नारी की जोरी है।

नारी नर की चिर आकषर्ण, नारी प्रेम की डोरी है।।


Saturday, February 27, 2021

जितने भी सम्मान हैं, जग में,

 सबसे ऊपर माता है

                


जितने भी सम्मान हैं, जग में, सबसे ऊपर माता है।

शहीद होता सीमा पर सैनिक, माँ! का सपूत कहलाता है।

नारी से ऊपर है माता।

पत्नी से भी, ऊपर माता।

जन्मदात्री नहीं है केवल,

प्राणों से, पाले है माता।

प्रसव पीड़ा सह जीवन देती, सैनिक बस खून बहाता है।

जितने भी सम्मान हैं, जग में, सबसे ऊपर माता है।।

माता केवल जन्म न देती।

पल-पल पाले सब सह लेती।

प्रसव भार सह प्रसव वेदना,

जीने के संस्कार भी देती।

माँ को आँचल, नद है प्रेम का, पल-पल प्रेम लुटाता है।

जितने भी सम्मान हैं, जग में, सबसे ऊपर माता है।।

दुनिया में सबसे टकराये।

मृत्यु को भी आँख दिखाये।

मातृत्व सुख के आगे माता,

स्वर्गिक सुख को भी ठुकराये।

राष्ट्रप्रेमी,  माँ के चरणों में,  जीवन पुष्प चढ़ाता है।

जितने भी सम्मान हैं, जग में, सबसे ऊपर माता है।।


Friday, February 26, 2021

काश! लौट आते वे दिन

 काश! लौट आते वे दिन

              



काश!

लौट आते वे दिन।


तुम चाहती थीं,

मुझे कितना?

हर पल-क्षण

संग साथ रहने की,

व्याकुलता थी,

तुम्हारे रोम-रोम में।


काश!

लौट आते वे दिन।


नयनों में,

अधरों में,

कपोलों की लालिमा में,

वक्षस्थल की गोलाइयों में,

कोमल कलाइयों में, 

तुम्हारे अंग-अंग में,

स्पर्श पाने की कामना,

उत्कट प्रेम की,

वो भावना।


काश!

लौट आते वे दिन।


मेरी छवि को,

पीने की ललक।

चित्र था मेरा,

तुम्हारा हृदय फलक।

तन को तन की,

मन को मन की,

स्पर्श पाने की, 

कैसी थी कसक?


काश!

लौट आते वे दिन।


समर्पित किया था,

तन-मन-धन,

सब कुछ।

कैसी चाहत थी?

हर पल,

हर क्षण,

हर रन्ध्र से मुझे,

अपने अन्दर लेने की,

आतुरता,

व्याकुलता,

और परेशानी।

आज स्मरण कर,

मैं हूँ हैरान!


काश!

लौट आते वे दिन।


Thursday, February 25, 2021

तेरे बिन, ये जीवन नीरस

 तू ही तो है मेरी नूरा

             


तेरे बिन, यह जग है अधूरा, तेरे बिन, मैं नहीं हूँ पूरा।

तेरे बिन,  ये जीवन नीरस,  तू ही तो है मेरी नूरा।।

जीवन में कुछ रास न आये।

जब तक तू मेरे पास न आये।

साथ में होती, नूरा-कुश्ती,

दूरी मुझको, बहुत सताये।

आकर के तू खुद ही देख ले, तेरे बिन हुआ जीवन चूरा।

तेरे बिन,  ये जीवन नीरस,  तू ही तो है मेरी नूरा।।

वक्ष स्थल बिन, नींद न आये।

अधर पान बिन, रहा न जाये।

तेरे स्पर्श का, जादू ही है,

सुबह-शाम, मुझको तड़पाये।

नारी बिन, नर दुर्बल कितना, नारी बनाये, नर को सूरा।

तेरे बिन,  ये जीवन नीरस,  तू ही तो है मेरी नूरा।।

अधरों की वो तेरी लाली।

प्रेम भरी आँखों की प्याली।

उष्ण उरोजों की ऊष्मा बिन,

कैसे जीऊँ? हालत  माली।

अकेले-अकेले मन है सीझता, आकर इसको कर दे पूरा।

तेरे बिन,  ये जीवन नीरस,  तू ही तो है मेरी नूरा।।


Tuesday, February 23, 2021

सोचो, समझो, सभलो, नारी

 खुद ही, खुद को, ठगो न नारी


 साथ भले ही ना रह पाये।

किन्तु साथ के गाने गाये।

माया तजकर सन्त कहें जो,

महफिल में, नारी ही आयें।


नारी को नर्क का द्वार बताया।

उनको भी, नारी ने,  जाया।

संन्यासियों के जलसों में भी,

जमघट महिलाओं का आया।


नर-नारी मिल खीचें गाड़ी।

बुर्का पहनें, या पहने साड़ी।

मिलकर कर्म से, किस्मत लिखते,

रेखा तिरछी हों, या आड़ी।


नारी बिन कोई, घर नहीं चलता।

कली बिना, कोई पुष्प न खिलता।

सृष्टि, सृजन, समर्पण नारी।

नारी बिन ना, पत्ता हिलता।


नारी है, सदगुणों की, थाती।

प्रातः वन्दन, रात की बाती।

नर निराश, जब हो जाता है,

मधुर वचन से आश जगाती।


नारी, नर को, देव बनाती।

सदगुणों से, उसको नहलाती।

नर के, यदि अवगुण अपना ले,

निष्ठाहीन कुलटा बन जातीं।


सोचो, समझो, सभलो, नारी।

नर की कुराह, चलो न नारी।

झूठ, छल, कपट, कर नर से,

खुद ही, खुद को, ठगो न नारी।


Monday, February 22, 2021

बुद्धि से जीती, दिल से टूटी

 हावी,  पेशेवर  चतुराई

                                     

धन संपदा बहुत कमाई।

सोचो लाॅरी कब थी गाई?

प्रेम भाव है, कहाँ खो गया?

हावी,  पेशेवर  चतुराई।


स्पद्र्धा के पथ पर नारी।

भूल रही, अपनी ही पारी।

मातृत्व का भाव मर रहा,

प्रतियोगिता की है तैयारी।


युवावस्था संघर्ष में बीती।

प्रौढ़ अवस्था रीती-रीती।

शादी के सपने भी खोये,

खुद हारकर, दुनिया जीती।


प्रेम भाव था प्रस्फुट होता।

कैरियर में था लगाया गोता।

स्थिर हुई, अधिकारी बनकर,

घर का डूब गया है, लोटा।


सखी-सहेली, सजना, संवरना।

बहाने बनाकर, पिय से मिलना।

हिसाब किताब में सब छूटा,

संबन्धों को, प्रेम से सिलना।


बच्ची खोई, किशोरी भी छूटी।

युवती,  जीवन रण  ने लूटी।

काम करन को बाहर निकली,

बुद्धि से जीती, दिल से टूटी।


Saturday, February 20, 2021

नारी की माँगो के आगे

 नर सदैव ही हारा है


कैसा प्यार, नहीं हैं समझे, माँगों का खुला पिटारा है।

नारी की माँगो के आगे, नर सदैव ही हारा है।।

प्रेम प्रदर्शन करती भारी।

अंगों से है उतरी सारी।

मुस्कान की आरी चलती,

नर की मति जाती है मारी।

नारी से पीड़ित नर को भी तो नारी का ही सहारा है।

नारी की माँगो के आगे, नर सदैव ही हारा है।।

कभी प्रेम से पागल करती।

सब कुछ सौंप समर्पण करती।

नजरें जब टेढ़ी करती है,

बड़ों-बड़ों के होश है हरती।

घायल करती, मरहम बनती, बच्चे जैसा दुलारा है।

नारी की माँगो के आगे, नर सदैव ही हारा है।।

रस्सी बिन बांधे नर को।

पूरण करती है जीवन को।

प्रेम में करती सब है अर्पण,

कपट मात देती नर को।

नर ने अपने कदम-कदम पर, नारी को ही पुकारा है।

नारी की माँगो के आगे, नर सदैव ही हारा है।।


Friday, February 19, 2021

सबसे अनूठा सबसे प्यारा

 नर नारी का संगम है


सबसे अनूठा सबसे प्यारा, नर-नारी का संगम है।

कोई देश हो, कोई भाषा, देखो दृश्य विहंगम है।।

इक-दूजे के लिए बने हैं।

इक-दूजे के लिए तने हैं।

इक-दूजे की चाहत है बस,

शिकायत भी तो प्रेम सने हैं।

नारी नर को प्यारी पल-पल, नारी हेतु नर सिंघम है।

कोई देश हो, कोई भाषा, देखो दृश्य विहंगम है।।

पल-पल नर का साथ खोजती।

जन्म देती है और पोषती।

बेटी, बहिन माता के रूप में,

पत्नी भी तो प्रेम रोपती।

अलग-अलग नर-नारी अधूरे, मिलकर खिलते रंगम हैं।

कोई देश हो, कोई भाषा, देखो दृश्य विहंगम है।।

नर, नारी बिन रहे अधूरा।

नारी मिल करती है पूरा।

नारी बिन अस्तित्व न नर का,

नारी बनाती, उसको शूरा।

इक-दूजे के भाव ही मिलकर, जीवन भर की च्युंगम हैं।

कोई देश हो, कोई भाषा, देखो दृश्य विहंगम है।।


Thursday, February 18, 2021

सच में से विश्वास निकलता

 नर-नारी से अलग न होता


सच में से विश्वास निकलता, नर-नारी से अलग न होता।

नर-नारी मिल पूरण होते, सच्चा प्रेम जब उरों में सोता।

प्रेम राह आसान नहीं है।

सच ने सच की बाँह गही है।

छल, कपट, प्रपंच नहीं कोई,

यह जीवन की राह सही है।

इक-दूजे को करें समर्पण, कोई भी मजबूर न होता।

सच में से विश्वास निकलता, नर-नारी से अलग न होता।।

इक-दूजे बिन नहीं रह सकते।

दूजे का दुख नहीं सह सकते।

सच में प्रेम जहाँ है होता,

कानूनों में नहीं बह सकते।

कितना भी मजबूर करो तुम, मजबूरी का संबन्ध न होता।

सच में से विश्वास निकलता, नर-नारी से अलग न होता।।

नर-नारी की राह एक है।

प्रेम जहाँ है, एक टेक है।

प्रेम में कोई माँग न होती,

धोखा है, वहाँ प्रेम फेक है।

प्रेम तो केवल करे समर्पण, प्रेम में कभी मन भेद न होता।

सच में से विश्वास निकलता, नर-नारी से अलग न होता।।


Wednesday, February 17, 2021

समय बदल गया, नारी बदली

 सच ही, सच की, नींव हिला दी

                                 



समय बदल गया, नारी बदली।

नहीं रही, अब रस की पुतली।

ऐसे-ऐसे कुकर्म कर रही,

घृणा को भी, आयें मितली।


प्रेम नाम ले, नित, नए, फँसाती।

सेक्स करो, खुद ही उकसाती।

धन लौलुपता, पूरी करने,

बलात्कार का केस चलाती।


शादी के नाम पर, जाल बिछाती।

झूठ बोल कर,  ब्याह रचाती।

पति कह, नर को, जी भर लूटे,

प्रेमी से मिल, उसे मरवाती।


कुकर्म घृणा के, करती ऐसे।

भाई-पिता भी, जीते कैसे?

सबको तनाव दे, मजे है करती,

रोज फँसा कर, जैसे-तैसे।


छल, धोखे से कर ली शादी।

खुद के मजे, पति की बरबादी।

दहेज के झूठे केस लगाकर,

सच ही, सच की, नींव हिला दी|


नर, नारी से डरता है अब।

बात राह में, करता है कब?

दुष्टा नारी, पीछा न छोड़े,

आत्म हत्या नर, करता है जब।


Monday, February 15, 2021

आकर्षण का समय है बीता

 विशुद्ध प्रेम की वेला है

                                         


आकर्षण का समय है बीता, विशुद्ध प्रेम की वेला है।

संबंधों का जाल नहीं ये, दिल से दिल का मेला है।।

हम दोनों हैं और न कोई।

जाग्रत प्रेम, वासना सोई।

जिसको जो कहना है कह ले,

आओ, सोयें औढ़ के लोई।

साथ आओ कुछ बातें कर लें, समय गया, जो पेला है।

संबंधों का जाल नहीं ये, दिल से दिल का मेला है।।

संबंधों की, ना मजबूरी।

नर-नारी में कैसी दूरी?

अकेले-अकेले फिरें अधूरे,

मिलकर होती जोड़ी पूरी।

अखरोटों से दाँत हैं टूटे, बैठ खाओ अब केला है।

संबंधों का जाल नहीं ये, दिल से दिल का मेला है।।

प्राकृतिक पूरक, नर और नारी।

मिलकर बोते, सुख की क्यारी।

देशकाल की नहीं है सीमा,

नारी नर से नहीं है न्यारी।

संग-साथ का समय मिले जब, खेलो प्रेम के खेला है।

संबंधों का जाल नहीं ये, दिल से दिल का मेला है।।


जीवन पथ पर, मिलकर चलना,

 सबका साथ निभाना है

              



नहीं आए थे,  अकेले जग में,  नहीं, अकेले जाना है।

जीवन पथ पर, मिलकर चलना, सबका साथ निभाना है।।

मात-पिता ने जन्मा, पाला।

संबन्धों का, मधुर था, प्याला।

पल भर को न अरक्षित छोड़ा,

माता, बहिन, बुआ या खाला।

पग-पग राह, दिखाते साथी, साथ में चलते जाना है।

जीवन पथ पर, मिलकर चलना, सबका साथ निभाना है।।

सिर पर रहा, पिता का साया।

संकट कभी, पास नहीं आया।

गलतियों पर, रोका-टोका,

मौन प्रेम था, कभी न गाया।

जीवन दाता,  पीछे छूटे,  काम का,  नया ठिकाना है।

जीवन पथ पर मिलकर चलना, सबका साथ निभाना है।।

जीवन साथी, कपट की थाती।

आकर्षण को, ये, प्रेम बताती।

कामना काम की, पूरी न हो जब,

पगड़ी उछाले, है  दिन राती।

ताल न, कभी मिलाती है, वो, गाती अपना गाना है।

जीवन पथ पर मिलकर चलना, सबका साथ निभाना है।।

जीवन क्या, और साथी कैसा?

सबको प्यारा, होता पैसा।

संतानें आगे बढ़ जातीं,

कहती हैं, फिर, ऐसा-वैसा।

जो बोया है, काटेगा वही, बन्दे क्या पछताना है?

जीवन पथ पर मिलकर चलना, सबका साथ निभाना है।।


Thursday, February 11, 2021

बेटी से घर की शोभा न्यारी

 पल पल प्रति पल देती नारी

               

पल पल प्रति पल देती नारी।

बेटी से घर की शोभा न्यारी।

मात-पिता की देखभाल कर,

सब कुछ किया, बनी न दुलारी।


सब कुछ सहती, करती सेवा।

भाई को संभाले, देती मेवा।

अपना भाग ये, कभी न माँगे,

भाई की रक्षा को, पूजे देवा।


प्रसव पीड़ा सह, बनती माता।

कष्टों को ही चुनती माता।

संतान खातिर, लड़े मौत से,

पत्नी पर हावी, होती माता।


किशोरी देखे, साथी के सपने।

लगे प्रेम की, माला जपने।

सब कुछ सौंप दिया प्रेमी को,

धोखा खाकर, लगी है तपने।


मात-पिता ने दान कर दिया।

शादी के नाम, बाहर कर दिया।

घर में सब कुछ भाई का था,

दहेज बुरा, खाली विदा कर दिया।


अपरिचित व्यक्ति पति बन गया।

पहली रात ही मान हर गया।

खाली हाथ है, आई कुलक्षणी,

सास, ननद का ताना बन गया।


पल पल सौंपा तन भी सौंपा।

धन उनका था, मन मैंने सौंपा।

संतान जनी, पर नाम है नर का,

नर ने कभी, विश्वास न सौंपा।


Wednesday, February 10, 2021

देवी नहीं, मानवी ही समझो

 देवी कहकर बहुत ठगा है

         

देवी नहीं, मानवी ही समझो, देवी कहकर बहुत ठगा है।

बेटी, बहिन, पत्नी, माता का, हर पल नर को प्रेम पगा है।।

बेटी बनकर, पिता को पाया।

पिता ने सुत पर प्यार लुटाया।

भाई पर की, प्रेम की वर्षा,

पत्नी बन, पति घर महकाया।

पराया धन कह, दान कर दिया, कैसे समझे? कोई सगा है।

देवी नहीं,  मानवी ही समझो,  देवी कहकर बहुत ठगा है।।

जन्म लिया, घर समझा अपना।

पराया धन  कह, तोड़ा सपना।

पोषण, शिक्षा, भिन्न-भिन्न दी,

फिर भी पिता, भाई था अपना।

मायके में कभी वारिस ना माना, परंपरा विष प्रेम पगा है।

देवी नहीं,  मानवी ही समझो,  देवी कहकर बहुत ठगा है।।

अपना घर, ससुराल में आई।

यहाँ भी समझी गयी पराई।

बात-बात में ताने सुनाकर,

अपने घर से क्या है लाई?

माय के में भी अपना नहीं था, ससुराल भी अपना नहीं लगा है।

देवी नहीं,  मानवी ही समझो,  देवी कहकर बहुत ठगा है।।


Tuesday, February 9, 2021

नहीं, जानता कहाँ बसन्त??


नहीं पूर्ण मैं, लगा हलन्त्!

नहीं, जानता कहाँ बसन्त??


सर्दी पीड़ित है तन-मन।

कोहरे से ढका हुआ जन-जन।

भाव बर्फ से आज जमे,

जीवन पथ दिखता निर्जन।

जीवन में है लगा हलन्त्!

नहीं, जानता कहाँ बसन्त??


बचपन भी तो जी न सका।

दो घूँट प्रेम के पी न सका।

कठोरता को नित झेला,

मैं खिलता बचपन दे न सका।

अनुशासन बन गया हलन्त्!

नहीं, जानता कहाँ बसन्त??


पास में जब कोई आया।

सिद्धान्तों का राग सुनाया।

गले किसी को लगा न सका,

कदम-कदम धोखा खाया।

अपराधी बन गया सन्त!

नहीं, जानता कहाँ बसन्त??


Friday, February 5, 2021

सर्दी का हो रहा अन्त।

मित्रो! आया है बसन्त!!


 मित्रो! आया है बसन्त!!

सर्दी का हो रहा अन्त।


मित्रो! आया है बसन्त!!

बर्फीली सर्दी बीत गयी।

वियोग की अग्नि रीत गयी।

संदेह कुहासा आज मिटा,

जाग उठी अब आस नयी।

कलि का सूरज उगा कन्त।

मित्रो! आया है बसन्त!!


वैक्सीन मिली, भय दूर गया।

भोर हुआ, अन्धेर गया।

कोरोना से बच पाएंगे,

जाग रहा है, नूर नया।

बच्चों के खिल उठे दन्त!

मित्रो! आया है बसन्त!!


सजनी से सजना आन मिला।

कामी को रज का दान मिला।

अर्थव्यवस्था जाग रही अब,

कर्मचारी को काम मिला।

कान्ता को सजाए आज कन्त।

मित्रो! आया है बसन्त!!


Monday, February 1, 2021

दुनिया के बाजार में

 संबन्ध किए नीलाम कोर्ट में


जो चाहत हो, वह मिल जाता, दुनिया के बाजार में।

सम्बन्ध बने बाजार की वस्तु, होता हूँ बेजार मैं।।

सबका सबसे एक ही रिश्ता।

खाने में हों, काजू पिस्ता।

अपने स्वारथ पूरे हों तो,

राक्षस को कहते हैं फरिश्ता।

झूठ छल और कपट हैं रिश्ते, षड्यन्त्र भरा आचार में।

जो चाहत हो, वह मिल जाता, दुनिया के बाजार में।।

धन की खाक, बनी है चाहत।

प्रेम और विश्वास हैं आहत।

षड्यंत्रों में प्रेम मर गया,

शिकारी कभी, देता ना राहत।

अपना कहकर शिकार कर लिया, हम खोये थे विचार में।

जो चाहत हो, वह मिल जाता, दुनिया के बाजार में।।

थोड़ा सा विश्वास था चाहा।

घात करन की कला है आहा।

संबन्ध किए नीलाम कोर्ट में,

लुटे खड़े, हम हैं चैराहा।

धन की पुजारी, सब कुछ कीया, रहे महल हवादार में।

जो चाहत हो, वह मिल जाता, दुनिया के बाजार में।।


Sunday, January 31, 2021

जो जन्मा है, वह मरता है

 समय चक्र


जो जन्मा है, वह मरता है।

समय चक्र अविरल चलता है।

किसी के लिए पथ, ना रूकता।

काली घटा से, सूर्य न झुकता।

चलते रहना ही जीवन है,

मृत्यु चक्र भी कभी न रूकता।

रूकता है, जो वह मरता है।

समय चक्र अविरल चलता है।


जिंदा दिली का नाम है जीवन।

खुलकर हँसना, है संजीवन।

खुलकर, मिलकर, हिलकर रहना,

प्रेम का एक पैगाम है जीवन।

प्रकृति में सब कुछ हिलता है।

समय चक्र अविरल चलता है।


जो आया है, उसको जाना।

फिर भी पथ में मित्र बनाना।

स्वीकार का भाव हो उर में,

लगेगा सब जाना पहचाना।

कर्म के बल पर जग पलता है।

समय चक्र अविरल चलता है।


Saturday, January 30, 2021

तू खुद ही अपना साथी बन जा

 नहीं अकेला रहना होगा


तू खुद ही अपना साथी बन जा, नहीं अकेला रहना होगा।

विरोधियों का स्वागत कर, विरोध ही तेरा गहना होगा।।

कोई न अपना, कोई न पराया।

मित्र समझ जो है मुस्काया।

शिकायतें हैं तनाव की जननी,

शान्त चित्त रह, सुक्ख कमाया।

समस्याएं हैं प्रेयसी तेरी, इनके साथ खुश रहना होगा।

तू खुद ही अपना साथी बन जा, नहीं अकेला रहना होगा।।

स्वार्थ में बाधक जिनके बनेगा।

कोप से उनके कैसे बचेगा?

दृढ़ होकर कर्तव्य निभा तू,

काँटों में भी पुष्प खिलेगा।

पथरीले पथ कितने भी हों, जीवन नद को बहना होगा।

तू खुद ही अपना साथी बन जा, नहीं अकेला रहना होगा।।

नहीं खोज तू मित्र ओ साथी।

लालच लोभ के सभी बराती।

ईमान रूपी दुल्हन को यहाँ,

लूट रहे हैं स्वयं घराती।

झूठ की चोट भले हो गहरी, सत्यमेव जयते कहना होगा।

तू खुद ही अपना साथी बन जा, नहीं अकेला रहना होगा।।


Thursday, January 28, 2021

नर-नारी कभी अलग नहीं हैं,

मिलने से व्यक्तित्व है खिलता


नर-नारी कभी अलग नहीं हैं, मिलने से व्यक्तित्व है खिलता।

प्रेम और विश्वास है इनका, जिसमें जग का प्यार है पलता।।

छल, सन्देह, भ्रम बने काल हैं।

तनाव में जीते, मालामाल हैं।

करता कोई विश्वास नहीं हैं,

जो चलते नित कपट चाल हैं।

तर्क शक्ति के तर्कजाल में, कपट भूमि पर प्रेम न उगता।

नर-नारी कभी अलग नहीं हैं, मिलने से व्यक्तित्व है खिलता।।

सबको सबका प्यार न मिलता।

विश्वास बिना कभी यार न मिलता।

मिलते नहीं अब प्रेम पुजारी, 

बाजारों में विश्वास न मिलता।

कानूनों के जाल में फंसकर, कभी कोई रिश्ता न सुलझता।

नर-नारी कभी अलग नहीं हैं, मिलने से व्यक्तित्व है खिलता।।

सीधा-सच्चा पथ है अपना।

नहीं किसी का कोई सपना।

घात भले ही अकल्पनाीय हो,

हमको सच से नहीं भटकना।

कैसी भी आएं मजबूरी, विश्राम के बाद पथिक फिर चलता।

नर-नारी कभी अलग नहीं हैं, मिलने से व्यक्तित्व है खिलता।।


Wednesday, January 27, 2021

नर-नारी में भेद कभी कोई

                                               

हमने ना स्वीकारा है


      नर-नारी में भेद कभी कोई, हमने ना स्वीकारा है।

नारी नर को देवी है तो, नर नारी का प्यारा है।।

नारी नर से विलग नहीं है।

इक-दूजे की राह गही है।

नर नारी बिन जी नहीं सकता,

नारी नर की बनी मही है।

मिलकर दोनों होते पूरे, मिल कर संसार संवारा है।

नर-नारी में भेद कभी कोई, हमने ना स्वीकारा है।।

नर-नारी संबन्ध निराला।

इक-दूजे का देत हवाला।

इक-दूजे को सदैव समर्पित,

मिलकर पीते प्रेम की हाला।

मिलकर बढ़ो, सृजन के पथ पर, प्रकृति ने तुम्हें पुकारा है।

नर-नारी में भेद कभी कोई, हमने ना स्वीकारा है।।

नर की शक्ति नारी ही है।

कदम-कदम पर प्यारी ही है।

नर को प्रेरण देती है जो,

सखी सहेली नारी ही है।

जीवन के झंझावातों में, इक-दूजे का सहारा है।

नर-नारी में भेद कभी कोई, हमने ना स्वीकारा है।।

Tuesday, January 26, 2021

गणतंत्र दिवस 2021 की हार्दिक शुभकामनाएं।

आइए आज के दिन भारत माता की आजादी के लिए लड़ने वाले उन सभी देशभक्तों के बलिदानों को याद करते हुए शपथ लें कि हम एक साथ मिलकर अपने कर्त्तव्यों का ईमानदारी से निर्वहन करते हुए देश में शांति, समृद्धि और एकता को बनाए रखने के लिए अपने जीवन को अर्पित करें।

    आज हम बिहेत्तरवां गणतन्त्र दिवस मना रहे हैं। देश ने कितना विकास किया है, यह राजधानी में आयोजित हो रहे कार्यक्रम की झांकियों से समझा जा सकता है। इस बार देश के कुछ किसान भी अपनी ताकत का अहसास कराते हुए ट्रेक्टर रैली का आयोजन भी कर रहा है। बैल की एक जोड़ी या एक गाय का सपना देखते हुए इस संसार से विदा होने वाला किसान कितना विकसित हुआ है, इसका अनुमान यह ट्रेक्टर रैली में आयोजित ट्रेकटरों, किसानों के द्वारा प्रयोग किये जा रहे लग्जरी वाहनों को देख कर सहजता से लगा सकता है।

किसान कितना सशक्त हुआ है, यह इसी बात से स्पष्ट है कि प्रचंड बहुमत से चुनी हुई सरकार को देश की राजधानी में चुनौती दे रहा है।

आज आवश्यकता इस बात की है कि किसान इस शक्ति का प्रयोग देश को और सशक्त करने में कर सके। हम इस विकास, समृद्धि और शक्ति को देश के शेष नागरिकों तक भी पहुंचा सकें, इसकी आवश्यकता है। आओ हम सब जहां भी हैं, जिस भी भूमिका में हैं, पूरी शक्ति के साथ अपने कर्तव्यों का निर्वहन करते हुए देश को विकास के चरम तक ले जाने के लिए प्रयत्न करें।

भारत माता की जय।

Sunday, January 24, 2021

गणतंत्र दिवस पर आओ, शहीदों को नमन हम करते हैं

 26 जनवरी 2021 के अवसर पर विशेष


संकल्प


गणतंत्र दिवस पर आओ, शहीदों को नमन हम करते हैं।

इसकी रक्षा और विकास का, संकल्प मिल कर करते हैं।।

गण पर तंत्र नहीं हावी हो।

ब्रह्मपुत्र, गंगा, रावी हो।

सुरक्षित रख, करें विकास हम,

हाथ हमारे ही चाबी हो।

निजी हितों का, गण के हित में, आओ, समर्पण करते हैं।

इसकी रक्षा और विकास का, संकल्प मिल कर करते हैं।।

लेना ही ना कर्म हमारा।

देना ही है धर्म हमारा।

राष्ट्र की खातिर जीएं हर पल,

यही फर्ज है, मर्म हमारा।

जीवन जीना गण के हित में, पल-पल अर्पण करते हैं।

इसकी रक्षा और विकास का, संकल्प मिल कर करते हैं।।

नौकर नहीं, कर्मयोगी हैं।

कुछ आतंक के भी रोगी हैं।

पल-पल अर्पण करें राष्ट्र को,

बनें योगी, जो भी भोगी हैं।

राष्ट्र के हित में सबका हित है, खुद को अर्पण करते हैं।

इसकी रक्षा और विकास का, संकल्प मिल कर करते हैं।।


प्रेम और विश्वास कभी भी

  कानूनों में नहीं बंध पाते


संबन्ध नहीं पैसों से बनते, नहीं धोखे से लूटे जाते।

प्रेम और विश्वास कभी भी, कानूनों में नहीं बंध पाते।।

प्रेम बिना संबन्ध न होता।

जबरन तो बस बंधन होता।

धन की खातिर संबन्ध बनाए,

पवित्र नहीं, गठबंधन होता।

जहाँ होता है, प्रेम समर्पण, संबन्ध स्वयं ही खिलते जाते।

प्रेम और विश्वास कभी भी, कानूनों में नहीं बंध पाते।।

झूठ बोलकर जिसने फँसाया।

उसने है विश्वास गँवाया।

शान्ति कभी ना उसको मिलती,

कितना भी हो स्वर्ण कमाया।

छल, कपट और षड्यन्त्रों से तो, मित्र भी शत्रु बन जाते।

प्रेम और विश्वास कभी भी, कानूनों में नहीं बंध पाते।।

धोखे से जिसने जो पाया।

कभी नहीं है, सुक्ख उठाया।

धन लूटे, भले प्राण भी लूटे,

झूठो को हमने ठुकराया।

जहाँ प्रेम विश्वास समर्पण, विकसित होते रिश्ते-नाते।

प्रेम और विश्वास कभी भी, कानूनों में नहीं बंध पाते।।


Saturday, January 23, 2021

जीवन में स्वर्गिक सुख मिलता

 साथी में विश्वास बसा हो


जीवन में स्वर्गिक सुख मिलता, साथी में विश्वास बसा हो।

प्रेम, समर्पण और त्याग हो, सच ने ही रिश्तो को रचा हो।।

दो से एक वहाँ होते हैं।

सच का बीज जहाँ बोते हैं।

झूठ, छल और कपट तो केवल,

षड्यन्त्र रचकर भी रोते हैं।

पारदर्शी है जीवन अपना, कपट जाल में भले फंसा हो।

जीवन में स्वर्गिक सुख मिलता, साथी में विश्वास बसा हो।।

नर-नारी को साथ चाहिए।

प्रेम और विश्वास चाहिए।

रिश्तो में विश्वास न हो तो,

नहीं कोई भी आस चाहिए।

रिश्ता नहीं वहाँ होता है, किसी एक ने दूजा ठगा हो।

जीवन में स्वर्गिक सुख मिलता, साथी में विश्वास बसा हो।।

धोखेबाजों से बचना है।

प्रेम नाम पर प्रवंचना है।

कीमत कोई पड़े चुकानी,

अपना पथ अपनी रचना है।

सावधान! हो आगे बढ़ना, कपट कामिनी जाल बुना हो।

जीवन में स्वर्गिक सुख मिलता, साथी में विश्वास बसा हो।।


भाग दौड़ है, बहुत हो चुकी

 आओ बैठें बाते कर लें!


भाग दौड़ है, बहुत हो चुकी, आओ बैठें बाते कर लें।

मन की कहें, मन की सुनें, मन से मन की चिंता हर लें।।

जब से हम हैं, मिले थे पथ में।

क्षण ना बैठे मन के रथ में।

साथ रहे पर मन न बसे हम,

भटके बहुत हैं जीवन जगत में।

इक-दूजे के दिल में उतरें, मन में बसी, वो पीड़ा हर लें।

भाग दौड़ है, बहुत हो चुकी, आओ बैठें बाते कर लें।।

संध्या वेला आने को है।

संभलो, दिन ढल जाने को है।

इक-दूजे में आओ समाएं,

रात अंधेरी आने को है।

कौन कहेगा? क्या? को छोड़े, इक-दूजे के मन की कर लें।

भाग दौड़ है, बहुत हो चुकी, आओ बैठें बाते कर लें।।

शिकवा-शिकायतें छोड़ के आओ।

गीत प्रेम के केवल गाओ।

दूरी बहुत सही हैं अब तक,

मिलन की वेला सुखद मनाओ।

सारी दूरी मिट जाएंगी, इक-दूजे के मन को वर लें।

भाग दौड़ है, बहुत हो चुकी, आओ बैठें बाते कर लें।।


Friday, January 22, 2021

मरता देखा है बसन्त!!

 

दुःखो का है नहीं अन्त!

नहीं जानता मैं बसन्त!!


बचपन कैसा सिसक रहा?

बुढ़ापा भी तो दुबक रहा।

जिस पर भोजन वस्त्र नहीं,

अलावों को भी तरस रहा।

मजबूरी में बना सन्त!

मरता देखा है बसन्त!!


प्रेम नाम से घृणा हुई।

जीवन है बस छुई-मुई।

साथ किसी का पा न सका,

सपने बन उड़ गए रुई।

मिला नहीं है कोई पन्त!

मरता देखा है बसन्त!!


मैं पग-पग हूँ छला गया।

रगड़ा हूँ, ना मला गया।

औरों की तो छोड़ो बात,

अपनों से ही ठगा गया।

प्रेम नाम ले, तोड़े दन्त!

मरता देखा है बसन्त!!

 


Thursday, January 21, 2021

मुद्दों को देखा ज्वलन्त!

 मैंने ना देखा बसन्त!

मैंने ना देखा बसन्त!
मुद्दों को देखा ज्वलन्त!

बच्चे को ना प्यार मिला।
साथी को ना एतबार मिला।
शिक्षा नाम बस तथ्य मिले,
नहीं कहीं संस्कार मिला।
नारी ने ही लगाया हलन्त!
मुद्दों को देखा ज्वलन्त!

कली से नहीं है फूल खिला।
खिलना था जो धूल मिला।
पोषण उसको मिल न सका,
गरीबी का उसे मिला सिला।
सर्दी से हैं बजे दन्त!
मुद्दों को देखा ज्वलन्त!

प्रेमी ने तन ही पाया।
झूठा ही गाना गाया।
विश्वासों पर घात किया,
जीवन रस सब लूट लिया।
बन नहीं पाया कभी कन्त!
मुद्दों को देखा ज्वलन्त!

सर्दी से भीषण वार मिला।
धोखे को समझा, प्यार मिला।
चुन-चुन कैसे धाव दिए,
उसका उसका यार मिला।
षड्यंत्रों का नहीं अन्त।
मुद्दों को देखा ज्वलन्त!

नहीं कहीं है यार मिला।
कानूनों का भार मिला।
उसने भी भीषण वार किया,
अपना समझा यार मिला।
प्रेम नहीं दिखता दिगंत।

Wednesday, January 20, 2021

कर्म छोड़कर निर्भरता की,

 

ये कैसी समानता है??



शक्ति, धैर्य, प्रेम की देवी, समर्पण तेरी महानता है।

कर्म छोड़कर निर्भरता की, ये कैसी समानता है??

नर से सदैव कर्म में आगे।

तुझसे ही नर भाग्य हैं जागे।

नर तेरे बिन सदा अधूरा,

तू सदैव ही आगे-आगे।

प्रतियोगी बनती हो क्यूँ? कैसी आज वाचालता है।

कर्म छोड़कर निर्भरता की, ये कैसी समानता है??

कानूनों का जाल ये कैसा?

भरण-पोषण को देता पैसा।

पढ़ी-लिखी समर्थ नारी भी,

कमा न सके, सामर्थ्य ये कैसा?

पिता के घर में करे त्याग, पति पर क्यूँ विकरालता है।

कर्म छोड़कर निर्भरता की, ये कैसी समानता है??

कर्म से विमुख रार है करती।

स्वयं क्यों नहीं सक्षम बनती?

निर्भरता नर पर दिखला कर,

नारी जाति का सम्मान हरती।

आक्रामकता से जग पीड़ित, सृजन करे दयालुता है।

कर्म छोड़कर निर्भरता की, ये कैसी समानता है??


Monday, January 18, 2021

नर से दूर रहकर नारी

 नींद चैन की सोई नहीं है


अतीत पीछे छूट गया है, वर्तमान में कोई नहीं है।

नर से दूर रहकर नारी, नींद चैन की सोई नहीं है।।

संग साथ से चलता है जग।

कभी कभी मिल जाते हैं ठग।

विश्वासघात की चोट से देखो,

दिल की भी हिल जाती है रग।

जीवन अमृत चाह सभी की, चाहता कोई छोई नहीं है।

नर से दूर रहकर नारी, नींद चैन की सोई नहीं है।।

प्रेम तत्व की चाह सभी को।

प्रेम से मिली आह खुदी को।

उलझन भरा प्रेम का पथ है,

मिलती नहीं, राह सभी को।

जग में रहना, सबको सहना, ओढ़ी तुमने लोई नहीं है।

नर से दूर रहकर नारी, नींद चैन की सोई नहीं है।।

मिलने से पहचान न होती।

पहचान ही आश है बोती।

आशा से फिर चाह जागती,

चाह से निकले जीवन मोती।

संग-साथ कभी फल नहीं सकता, प्रेम बेलि यदि बोई नहीं है।

नर से दूर रहकर नारी, नींद चैन की सोई नहीं है।।

समय भले ही बहुत है बीता।

जीवन हो गया रीता-रीता।

प्रेरणा बिन नहीं जीवन कटता,

जीवन के बिन मैं हूँ जीता।

गयीं दूर, अब मिलना मुश्किल, किन्तु आश अभी खोई नहीं है।

नर से दूर रहकर नारी, नींद चैन की सोई नहीं है।।


Sunday, January 17, 2021

बिना हिचक सब कर दो अर्पण

 प्रेम किसी का पा जाओ तो


अकेले-अकेले नीरस जीवन, साथ में कोई आ जाओ तो।
बिना हिचक सब कर दो अर्पण, प्रेम किसी का पा जाओ तो।।
चन्द पलों का साथ यहाँ पर।
क्या मालूम? कल जायँ कहाँ पर?
संयोग-वियोग का खेल निराला,
बिछड़े कल, कल मिले वहाँ पर।
प्रेम का दरिया, बड़ा निराला, बहना उसमें बह पाओ तो।
बिना हिचक सब कर दो अर्पण, प्रेम किसी का पा जाओ तो।।
कठिनाई भरा जीवन पथ है।
निर्णय नहीं, बस मेरा मत है।
धोखे, छल और कपट से पूरित,
जीवन से भला मौत का रथ है।
साथ भले ही चल नहीं पाओ, मिलते जब, मुस्काओ तो।
बिना हिचक सब कर दो अर्पण, प्रेम किसी का पा जाओ तो।।
हँसते गाते जीना होगा।
बहाना रोज पसीना होगा।
अपना कहकर छलते हैं यहाँ,
अमी समझ विष पीना होगा।
साथ छोड़कर जाते, जाओ, पहचान लेना, मिल जाओ तो।
बिना हिचक सब कर दो अर्पण, प्रेम किसी का पा जाओ तो।।
प्रकृति पुरूष का साथ बनाया।
नर-नारी ने साथ निभाया।
संग-साथ रह जीवन अमृत,
अलग-अलग, है तनाव कमाया।
छल, कपट, षड्यन्त्र तजकर, प्रेम करो, यदि कर पाओ तो।
बिना हिचक सब कर दो अर्पण, प्रेम किसी का पा जाओ तो।।

नारी ने नर पर, समर्पण से ही

 

विजय, सदैव ही पाई है

                                   

 

प्रेम, विश्वास, निष्ठा, आस्था पर, कभी न जीती चतुराई है।

नारी ने नर पर, समर्पण से ही, विजय, सदैव ही पाई है।।

सहजता का सौन्दर्य निराला।

विश्वास भरा, आँखों का प्याला।

विश्व विजयी मद हत हो जाता,

मुस्काती जब,  प्रेम से बाला।

शक्ति जहाँ, कोई काम न करती, सौन्दर्य सुधा रंग लाई है।

नारी ने नर पर, समर्पण से ही, विजय, सदैव ही पाई है।।

क्रूरता नहीं, कभी है जीती।

कठोरता को कोमलता पीती।

करोड़ों शहादत हों न्यौछावर,

प्रसव पीड़ा सुख नारी जीती।

तर्क-वितर्क, सिर्फ परास्त हैं करते, प्रेम ने जीत दिलाई है।

नारी ने नर पर, समर्पण से ही, विजय, सदैव ही पाई है।।

लाखों करोड़ों भले ही कमाये।

भौतिकता की तपन जलाये।

प्रेम भरी थपकी नारी की,

नर को स्वर्गिक, अहसास कराये।

ईर्ष्या में जलते, भटकते नर को, घर की राह दिखाई है।

नारी ने नर पर, समर्पण से ही, विजय, सदैव ही पाई है।।

Thursday, January 14, 2021

बुद्धि से जीती, दिल से टूटी

 

                     खुद हारकर, दुनिया जीती               

धन संपदा बहुत कमाई।

सोचो लारी कब थी गाई?

प्रेम भाव है, कहाँ खो गया?

हावी,  पेशेवर  चतुराई।

 

स्पर्धा के पथ पर नारी।

भूल रही, अपनी ही पारी।

मातृत्व का भाव मर रहा,

प्रतियोगिता की है तैयारी।

 

युवावस्था संघर्ष में बीती।

प्रौढ़ अवस्था रीती-रीती।

शादी के सपने भी खोये,

खुद हारकर, दुनिया जीती।

 

प्रेम भाव था प्रस्फुट होता।

कैरियर में था लगाया गोता।

स्थिर हुई, अधिकारी बनकर,

घर का डूब गया है, लोटा।

 

सखी-सहेली, सजना, संवरना।

बहाने बनाकर, पिय से मिलना।

हिसाब किताब में सब छूटा,

संबन्धों को, प्रेम से सिलना।

 

बच्ची खोई, किशोरी भी छूटी।

युवती,  जीवन रण  ने लूटी।

काम करन को बाहर निकली,

बुद्धि से जीती, दिल से टूटी।