Tuesday, May 5, 2020

टेढ़़े-मेढ़े, अंधेरे पथ पर, सहजता से

साथ में मेरे आ जाओ

                     डाॅ.संतोष गौड़ राष्ट्रप्रेमी


टेढ़़े-मेढ़े, अंधेरे पथ पर, सहजता से,
चल सको, तो, साथ में मेरे आ जाओ।
लोभ, लालच, ईष्र्या-द्वेष, सच्चे मन से,
तज सको, तो, साथ में, मेरे आ जाओ।
छल, कपट, षड्यंत्र, बदला, दुर्भावना से,
हट सको, तो, साथ में मेरे आ जाओ।
असत्य, लालसा, लिप्सा, वासना से,
रूक सको, तो, साथ में मेरे आ जाओ।
कथनी-करनी एक, बनावटीपन से मुक्त,
हो सको, तो, साथ में मेरे आ जाओ।
आलस्य, निद्रा, तंद्रा तज, कर्म पथ पर,
बढ़ सको, तो, साथ में मेरे आ जाओ।
धन, पद, यश, संबन्धों का मोह तज,
रह सको, तो, साथ में मेरे आ जाओ।
अहंकार, दुर्भावना, तज, सदभावना,
पा सको, तो, साथ में मेरे आ जाओ।

No comments:

Post a Comment

आप यहां पधारे धन्यवाद. अपने आगमन की निशानी के रूप में अपनी टिप्पणी छोड़े, ब्लोग के बारे में अपने विचारों से अवगत करावें.